ज्योति प्रजापति रही गणित की टॉपर

मां करती है मजदूरी, स्कूल ने नि:शुल्क पढ़ाया

0
43

प्रजापति मंथन : राजगढ़ (म.प्र.) जिले के बोडा नगर की रहने वाली ज्योति प्रजापति ने ना केवल समाज का और राजगढ़ का नाम रौशन किया बल्कि प्रदेश का नाम भी रौशन किया है। दरअसल ज्योति अर्जुन कांवेट स्कुल बोड़ा की कक्षा 12वी की छात्रा है जिसने टॉप कर स्कूल के साथ साथ अपने माता-पिता का भी नाम रौशन किया है। छात्रा का विद्यालय परिवार द्वारा जोरदार स्वागत किया गया। ज्योति के पिता का नाम गोपाल प्रजापति है जिसकी मौत 4 साल पहले हो गयी थी उस समय ज्योति 8वीं कक्षा में पढती थी।

उसका एक छोटा भाई भी है। ज्योति की मां मजदूरी कर बच्चो का लालन पालन करती है। पिता की मौत के बाद ज्योति की पढ़ाई लगभग छूट ही गई थी लेकिन बोड़ा के अर्जुन कांवेट स्कूल संचालक ठाकुर कमल सिंह राठौड़ ने उसे निशुल्क पढ़ाया और वो दसवीं के बाद 12वीं में प्रांतीय मेरिट सूची में स्थान प्राप्त करने में सफल हुई। छात्रा ज्योति प्रजापति का कहना है कि उसके पिता की मौत के बाद दादा दादी, तीन बहने एक छोटा भाई और उसकी मां सहित सात लोगों का परिवार है।

जिसमें दादा दादी बुजुर्ग है और उसकी मां ही घर का खर्च चलाती है, मां सरकारी सोसाइटी के काम के अलावा मजदूरी करती है जिससे परिवार का पेट पलता है लेकिन इतना भी नहीं कमा पाती की प्राइवेट स्कूल में पढ़ाकर बच्चो का उच्च शिक्षा दिला सके। ऐसे में अर्जुन कांवेट स्कूल के संचालक ठाकुर कमल सिंह राठौड़ ने अपने विद्यालय में कक्षा 9वीं से लेकर 12वीं तक पढ़ाई निशुल्क कराई। जिस कारण ज्योति का पढ़ाई का सहारा मिला और ज्योति ने 96.4 अंक लाकर मानो इतिहास ही रच दिया हो।

मां करती है मजदूरी, स्कूल ने नि:शुल्क पढ़ायावह 500 मे से 482 अंक लाकर प्रदेश में 10 रैंक ले आई और प्रदेश व घर परिवार स्कूल के साथ प्रजापति समाज का भी नाम रौशन कर दिया। प्रदेश भर से छात्रा को फोन पर समाज के लोगं बधाई प्रेषित कर रहे है। ज्योति इस सफलता से बेहद खुश है और वह आगे आईएएस बनना चाहती है।