माटी के बोल कार्यक्रम में मिट्टी की विशेषताओं पर हुई चर्चा

0
205

प्रजापति मंथन : दिल्ली। डॉक्टर बीआर अंबेडकर विश्वविद्यालय में G-20 कार्यक्रम की श्रंखला के तहत 3 मार्च को माटी के बोल विषय पर व्याख्यान आयोजित किया गया। जिसमें देश के प्रतिष्ठित मिट्टी विशेषज्ञ अमृत माटी इंडिया ट्रस्ट के चेयरमैन श्री अंजनी किरोड़ीवाल को मुख्य वक्ता के रूप में आमंत्रित किया गया।

अंजनी किरोड़ीवाल ने अपने वक्तव्य में मिट्टी से बने खिलौनों, बर्तनों के सामाजिक, सांस्कृतिक, वैज्ञानिक और आयुर्वेदिक महत्व को समझाते हुए कहा कि बहुत सारी बीमारियां आजकल एल्युमीनियम के प्रयोग के कारण बढ़ी है। उन्होंने कहा की मिट्टी के बर्तनों का प्रयोग करने से ना केवल उम्र बढ़ती है बल्कि लंबे समय तक कोई बीमारियां भी नहीं होती है। 

विश्वविद्यालय की कुलपति प्रोफेसर अन्नू सिंह लाठ की प्रेरणा से यह कार्यक्रम संभव हुआ है। कार्यक्रम का आरंभ प्रो. सत्यकेतु सांस्कृत के स्वागत संबोधन से हुआ। इस कार्यक्रम के संयोजक प्रो. सत्यकेतु सांस्कृत ने कहा कि G-20 के अंतर्गत आने वाले आत्मनिर्भर भारत की संकल्पना को अंजनी जी साकार कर रहे हैं। अंबेडकर विश्वविद्यालय दिल्ली में ऐसे विचारों का स्वागत है।

विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ नितिन मलिक ने अंजनी किरोड़ीवाल एवं समस्त उपस्थित श्रोता गण के प्रति अपना आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम का संचालन डॉक्टर महेंद्र प्रजापति ने किया। कार्यक्रम में इंदौर के प्रतिष्ठित व्यापारी एवं समाजसेवी विष्णु प्रजापति, सत्यवीर उपस्थित थे। इस कार्यक्रम का लाइव प्रसारण V9 वाइस चैनल पर किया गया।