प्रजापति समाज के प्रदेश युवा संगठन ने विभिन्न मांगो को लेकर क्षेत्रीय विधायक को दिया ज्ञापन

प्रजापति समाज के छात्रावास, ईंट भट्‌टों मेें आरही समस्याओं सहित विभिन्न मांगों के लिए विधायक पानाचंद मेघवाल को सौपा ज्ञापन।

0
285
विधायक पानाचंद मेघवाल को ज्ञापन देते युवा शाखा के पदाधिकारी।

प्रजापति मंथन : बारां। अखिल भारतीय प्रजापति कुंभकार महासंघ युवा संगठन के पदाधिकारियों ने युवा प्रदेश अध्यक्ष देवकिशन प्रजापति के नेतृत्व में प्रजापति समाज की विभिन्न समस्याओं का निस्तारण करने के लिए विधायक पानाचंद मेघवाल को ज्ञापन सौंपा।

ज्ञापन में युवा प्रदेशाध्यक्ष प्रजापति ने बताया कि प्रजापति समाज अधिकांश भाग से यानि 80-90 प्रतिशत हमेशा ही भाजपा को वोट करते आ रहा था किंतु आपके एवं हमारे खनन मंत्री प्रमोद जैन भाया द्वारा दिए गए आश्वासन के बाद वर्ष 2018 के विधानसभा चुनाव मंें 70-80 प्रतिशत प्रजापति समाज ने कांग्रेस को वोट दिया है। बिना किसी शर्त के, लेकिन दो वर्ष बीत जाने के बाद भी समाज उपेक्षा का शिकार हो रहा है।

ज्ञापन में बताया कि समाज की विभिन्न समस्याएं है जैसे प्रजापति समाज के छात्रावास के लिए भूमि आबंटित की जाए, जो कि आपके पिछले कार्यकाल से पत्रावली राज्य सरकार के पास विचाराधीन है। ईंट भटटों में आ रही मिटटी की समस्या को हल किया जाए। कांग्रेस के संगठन में प्रजापति समाज को उचित प्रतिनिधित्व दिया जाए, राज्य सरकार द्वारा दी जाने वाली राजनीतिक नियुक्तियांें में समाज को प्रतिनिधित्व दिया जाए, राजस्थान में माटी कलां बोर्ड का गठन किया जाए, प्रजापति समाज में सरकारी र्कचारी एवं संविदा कर्मचारियों एवं प्राइवेट कर्मचारियों की सरकारी अधिकारियों एवं प्राइवेट टेंडर लेने वाले ठेकेदारों द्वारा प्रताडित नहीं किया जाए एवं समाज के जनप्रतिनिधियों का सरकार द्वारा पूर्णरूप से सहयोग किया जाए, ताकि वह विकास के नए आयाम स्थापित कर सके।

ज्ञापन देने के दौरान जिला सचिव कांग्रेस कमेटी, बारां एवं अ.भा.प्र.कु. महासंघ युवा शाखा के प्रदेशाध्यक्ष देवकिशन प्रजापति, प्रदेश मंत्री महेंद्र प्रजापति, जिला सचिव दिनेश बहेनियां, पूर्व जिला अध्यक्ष बारां ओमप्रकाश प्रजापति, अमरलाल, भवानीशंकर, हेमराज सामरिया, रामभरोस, कुलदीप प्रजापति, हेमराज प्रजापति अटरू, योगेश प्रजापति, महावीर प्रजापति, हेमंत प्रजापति, महेश प्रजापति, मुकेश प्रजापति, चैतन्य प्रजापति, महावीर भैसडा, राधेश्याम अंता, मेघरात तलावडा एवं रामेश्वर प्रजापति आदि शामिल थे।