तसव्वर में जो देखा सब अलग था

0
298

ग़ज़ल

तसव्वर में जो देखा सब अलग था
तुम्हारे प्यार का मतलब अलग था

लहू के रंग से पहचान करते
अगर हर शख्स का मज़हब अलग था

हमें मज़मा लगाने की है आदत
मदारी का कहाँ करतब अलग था

फ़क़त इक रात में बदलाव कैसे
तुम्हारा लहज़ा गुज़री शब अलग था

बलजीत सिंह बेनाम
103/19 पुरानी कचहरी कॉलोनी, हाँसी ज़िला हिसार (हरियाणा)
मोबाईल नंबर : 9996266210