संभागीय आयुक्त ने किया झालावाड़ का दौरा, हालातों का लिया जायजा

सामान्य बेड को ऑक्सीजन बेड मे बदलने के दिए निर्देश

0
136 views

प्रजापति मंथन : झालावाड़। जनअनुशासन पखवाड़े के दौरान कोविड-19 की रोकथाम के लिए राज्य सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों की सख्ती से पालना एवं जिला अस्पताल व कोविड केयर सेन्टरों में कोविड-19 बीमारी से ग्रसित मरीजों के संबंध मे की गई व्यवस्थाओं की समीक्षा बैठक का आयोजन शुक्रवार को संभागीय आयुक्त कैलाश चन्द मीना की अध्यक्षता में मिनी सचिवालय के सभागार में किया गया।

संभागीय आयुक्त ने कहा कि तीव्र गति से शहर एवं ग्रामीण क्षेत्रों में फैल रहे कोविड-19 महामारी पर अंकुश लगाने के लिए जिला प्रशासन द्वारा चलाए जा रहे डोर टू डोर सर्वे कार्य पर प्रभावी पर्यवेक्षण करते हुए आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, पटवारी, ग्राम सेवक, एएनएम एवं पंचायत स्तरीय कर्मचारियों को सम्मिलित कर शीघ्र सर्वे कार्य पूर्ण करवाने के निर्देश उपखण्ड अधिकारियों को दिए। उन्होंने कहा कि सर्वे के दौरान कोविड के लक्षण पाए जाने पर व्यक्ति को घर पर ही आइसोलेशन में रहने हेतु पाबंद कर उसे चिकित्सकीय परामर्श से दवाइयों का किट एवं उपलब्ध करवाया जाए ताकि जिला चिकित्सालय पर अनावश्यक भार नहीं पड़े।

कुंभ मेले से आने वाले व्यक्तियों की सूची तैयार करें

उन्होंने कहा कि पंचायत स्तर पर कुंभ मेले से आने वाले व्यक्तियों की सूची तैयार कर उन्हें होम क्वारंटाइन में रखकर ही चिकित्सकीय इलाज किया जाए। साथ ही उन्होंने गांव में बाहर से आने वाले यात्रियों की सूची तैयार कर उनकी कोविड-19 की जांच कराई जाए।

सामान्य बेड को ऑक्सीजन बेड मे बदलने के दिए निर्देश

संभागीय आयुक्त ने श्री राजेन्द्र सार्वजनिक चिकित्सालय झालावाड़ में सामान्य बेड्स को ऑक्सिजन बेड्स में बदलने के निर्देश दिए। साथ ही केवल गंभीर मरीजों को ही अस्पताल में भर्ती करने हेतु निर्देशित किया। सामान्य लक्षण वाले मरीेजों को कोविड केयर सेन्टर में भिजवाने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए।

अनावश्यक बाजारों में घूम रहे व बिना मास्क पहने व्यक्तियों के चालान बनाएं

संभागीय आयुक्त द्वारा नगर परिषद् आयुक्त, नगर पालिकाओं के अधिशाषी अधिकारियों को जनअनुशासन पखवाड़े के दौरान राज्य सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का उल्लंघन करने वाले दुकानदारों, बिना मास्क अनावश्यक बाजारों मे घूम रहे व्यक्तियों के चालान बनाने के निर्देश दिए।

गाइड लाईन की पालना नहीं करने वाले वाहन चालकों के चालान बनाएं

उन्होंने जिला परिवहन अधिकारी से 1 जनवरी 2021 से कोविड गाइड लाईन का उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों के बनाए गए चालानों की जानकारी मांगी। उन्होंने कोविड गाइड लाईन का उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों के खिलाफ सख्त कार्यवाही करने के निर्देश भी जिला परिवहन अधिकारी को दिए।

कन्टेन्मेन्ट जोन बनाएं एवं सख्ती से पालना करवाएं

उन्होंने उपखण्ड अधिकारी तथा मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को क्षेत्र में अधिक संख्या में संक्रमित पाए जाने पर कंटेन्मेन्ट जोन की संख्या बढ़ाने एवं सख्ती से पालना करवाए जाने हेतु निर्देशित किया। साथ ही ग्राम पंचायत स्तर पर गठित समितियों को सक्रिय करने, प्रतिदिन मॉनिटरिंग करने तथा प्रतिदिन ऑनलाईन सूचना लेने के निर्देश उपखण्ड अधिकारियों को दिए।

शादी समारोह की विडियो देख कर करें कार्यवाही

संभागीय आयुक्त ने कहा कि किसी की शादी में खुशियों मे अनावश्यक व्यवधान डालना प्रशासन का मकसद नहीं है। कोविड-19 पर अंकुश लगाने के लिए राज्य सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों की पालना हमारा उद्देश्य है। उपखण्ड अधिकारी एवं पुलिस अधिकारी अपने क्षेत्र के विवाह समारोह की विडियो रिकॉर्डिंग देखें। अगर शादियों में 50 से अधिक व्यक्ति पाए जाएं तो न सिर्फ आयोजकों पर जुर्माना किया जाए बल्कि उनके खिलाफ राजस्थान महामारी अधिनियम 2020 तथा आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के प्रावधानों तहत मुकदमा दर्ज किया जाए। साथ ही संबंधित मैरिज हॉल व मैरिज गार्डन को सीज करने की कार्यवाही भी अमल में लाई जाए।

इस दौरान पुलिस अधीक्षक डॉ. किरन कंग सिद्धू, अतिरिक्त जिला कलक्टर दाताराम, जिला परिषद् के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रामजीवन मीणा, उपखण्ड अधिकारी झालावाड़ मुहम्मद जुनैद, नगर परिषद् आयुक्त कमेलश कुमार मीना, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. साजिद खान, एसआरजी चिकित्सालय अधीक्षक डॉ. संजय पोरवाल, महिला एवं बाल विकास विभाग के उपनिदेशक महेश चन्द गुप्ता, जिला परिवहन अधिकारी समीर जैन, रीको के क्षेत्रीय प्रबंधक एम.के. शर्मा सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

बॉर्डर चैक पोस्ट का किया निरीक्षण

चंवली स्थित राजस्थान-मध्यप्रदेश बार्डर चैक पोस्ट का निरीक्षण करते हुए।

संभागीय आयुक्त ने जिला कलक्टर एवं पुलिस अधीक्षक के साथ चंवली स्थित राजस्थान-मध्यप्रदेश बार्डर चैक पोस्ट का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने उपखण्ड अधिकारी पिड़ावा उम्मेद सिंह राजावत एवं पुलिस उपाधीक्षक वृत्त पिड़ावा धन्नाराम को प्रतिदिन चैक पोस्ट का निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा लेने के निर्देश प्रदान किए हैं।

उन्होंने चैक पोस्ट पर कार्यरत मेडिकल स्टॉफ को निर्देशित किया कि आरटी-पीसीआर नेगेटिव जांच के बिना किसी को राजस्थान की सीमा में प्रवेश न दें। 72 घण्टे पूर्व की आरटी-पीसीआर जांच दिखाने पर उनके नाम, पता, मोबाइल नम्बर गन्तव्य स्थान आदि की सूचना रजिस्टर में एन्ट्री करें तथा जिन यात्रियों की स्क्रीनिंग की जा रही है एवं लक्षण पाए जाने पर उनको पाबंद किया जाए और गन्तव्य स्थान के अधिकारियों को इसकी सूचना दी जाए ताकि यात्रियों के गन्तव्य पर पहंुचने पर उनको होम आइसोलेट कर इलाज किया जा सके।