रक्तवीर युवा टीम के सदस्यों ने दो साल में 4000 यूनिट से ज्यादा ब्लड देकर बचाई गंभीर मरीजों की जान

रक्तदान का जुनून : 23 साल के युवा अंकित प्रजापति ने कई जिंदगियो को बचाने के भाव से टीम बनाकर शुरू की सेवा

0
141

प्रजापति मंथन : कोटा (राज.)। “क्या लेके आया बंदा क्या लेके जाएगा” इन युवाओं की रक्तवीर युवा टीम ने इस लाइन को अपनी जिंदगी में उतार रखा है,अंकित प्रजापति बताते हे की आज से लगभग 2 वर्ष पुर्व कोई ग्रामीण क्षेत्र के मरीज़ को दुर्लभ रक्त समूह बी नेगेटिव की अत्यंत जरूरत थी उसकी पीड़ा को देखकर जो मन में भाव जाग्रत हुआ बस उसी का परिणाम रक्तवीर युवा टीम है,अंकित प्रजापति द्वारा स्थापित इस टीम के द्वारा रक्तदान से लेकर जरूरतमंदों की ज़रूरत को पूरा करने के लिए अनेकों कार्य किए जाते है।

रक्तवीर युवा टीम वर्तमान में कोटा जिले के अलावा बारां, झालावाड़, भीलवाड़ा एवम विदिशा में पूरी तरह से कार्य कर रही है, कोटा जिले की इस टीम में लगभग 600 se 700 सदस्य है जो निरंतर जरूरतमंदों की मदद के लिए रक्तदान करते है तथा अंकित प्रजापति स्वयं भी 15 बार रक्तदान एवम एसडीपी डोनेट कर चुके हैं।

सोशल मीडिया हे मदद का माध्यम:-

संस्थापक अंकित प्रजापति बताते हे की जैसे ही हमे सोशल मीडिया से पता लगता ही की इस हॉस्पिटल के इस मरीज को इस रक्त समूह की आवश्यकता ही तो उस ग्रूप का रक्तदाता मरीज के परिजन से संपर्क कर तुंरत रुक्तदान के लिए ब्लड बैंक पहुंच जाता हैं।

कोविड में सेवा का कार्य दोगुनी तेजी से किया:- इस कोरोना महामारी में जहा एक और अब डरे हुई थे ऐसे में टीम के सदस्य निरंतर अपने अपने माध्यम से रोगियों की मदद कर रहे थे। रक्त,प्लाज्मा,ऑक्सीजन सिलेंडर,बेड, कई तरह को गोली दवाइया टीम सदस्य अलग अलग माध्यम से प्रयास करके उपलब्ध करवा रहे थे।

कोरोना की इस दूसरी लहर में टीम के द्वारा 50 से 60 प्लाज्मा डोनेशन, 150 से 200 जरूरत मंद मरीजों को समय पर रक्त एवम 15 के लगभग रक्तदान शिविर आयोजित कर चुके है इसी के साथ ही गरीब एवम निर्धन परिवारों को आर्थिक रूप से मदद एवम राशन कीट पहुंचाए गए,मास्क वितरण एवम साथ हि मूक पशु पक्षियों के लिऐ भी खानपान की व्यवस्था टीम के द्वारा की गई है।

टीम के प्रमुख स्तंभ:- ऐसे तो रक्तवीर युवा टीम में 600 से 700 सदस्य हैंएवम सभी सेवा का कार्य पूरी जिंदादिली से कर रहे है,लेकिन मुख्य रूप से सागर योगी, रोहित प्रजापति, सुमित चंदेल, गोविंद मेघवाल, लक्की मीणा, अनिकेत प्रजापति, ध्रुव पवन मोहबिया, नरेश दादीच, लोकेश मीणा, अभय सिंह चारण, जसवंत प्रजापति इत्यादि है। इन सभी के द्वारा भी लगभग 10 से  20 बार रक्त एवम एसडीपी डोनेट की जा चुकी है।

टीम के माध्यम से अब तक के कार्य:- रक्तवीर युवा टीम समस्त सदस्यों के माध्यम से अभी तक 110  रक्तदान शिविर,500 के लगभग इमरजेंसी केसेज में लाइव डोनर,डेंगू के समय एवम दूसरे समय में मिलाकर 70 से 80 एसडीपी करवा चुकी है इसी के साथ आर्थिक रूप से तंग परिवाओ के लिऐ मुहिम के माध्यम से मदद करना,मुक पशु पक्षियों के लिऐ भोजन सेवा,परिंडे इत्यादि, कोरोना महामारी के समय में मास्क वितरण एवम सेंटाइजिशन करना, एवम गरीब परिवारों के लिए भोजन वितरण, कंबल वितरण, चरण पादुका इत्यादि अनगिनत सेवाभावी कार्य किए जा चुके हैं।

रक्तवीर युवा टीम को हासिल सम्मान:- रक्तवीर युवा टीम को सेवा के लिए अनगिनत सम्मान मिल चुके हैं,कई समाजसेवी संस्थाओं,कई ब्लड बैंक टीम का सम्मान कर चुके है तथा इसके साथ ही अंकित प्रजापति जिला मुख्यालय स्तर पर जिला कलेक्टर द्वारा भी सम्मानित हो चुके हैं।