राजस्थान सरकार ने संशोधित सुची जारी कर मानी कुम्हार समाज की मांग

विधायक पानाचंद मेघवाल के माध्यम से युवा प्रदेशाध्यक्ष देवकिशन प्रजापति ने मुख्यमंत्री के नाम सौपा ज्ञापन

0
767

प्रजापति मंथन : झालावाड़ (राज.) राजस्थान सरकार के द्वारा कोराना महामारी में लॉकडाउन से प्रभावित लोगों को राहत देने के लिए अस्थायी खाद्य पात्रता सूची जारी की है। इस सूची में शामिल परिवारों को नि:शुल्क खाद्य सामग्री वितरित की जा रही है। सरकार के द्वारा जारी प्रथम सूची में प्रजापति समाज सहित कई कामगार जातियों को इसमें शामिल नहीं किया गया था।

जिसको लेकर प्रदेश के विभिन्न जिलों से प्रजापति समाज के संगठनों के द्वारा ज्ञापन देकर इस सूची में शामिल करने की मांग की गई। जिसके बाद राजस्थान सरकार के द्वारा संशोधित सूची जारी की गई। जिसमें विभिन्न कामगार जातियों सहित कुम्हार समाज को अस्थायी खाद्य प्रात्रता सूची में शामिल कर लिया गया।

अस्थायी खाद्य सुरक्षा पात्रता सूची में ऐसे जुड़वाये नाम

कोरोना महामारी के चलते प्रभावित लोगों को राहत देने के लिए राजस्थान सरकार के द्वारा तैयार करवाई जा रही अस्थायी खाद्य सहायता सूची में नाम जड़वाने के लिए सर्वे का कार्य किया जा रहा है। ग्रामीण क्षेत्र में सर्वे कार्य ग्राम स्तरीय कोर ग्रुप एवं बीएलओ तथा शहरी क्षेत्र में नगर निकाय एवं बीएलओ के माध्यम से करवाया जाएगा । इस सूची में योग्य लोंगों के नाम जुड़वाकर उनका सहयोग किया जा सकता है।

लॉकडाउन के कारण कुम्हार समाज का पारंपरिक मिट्‌टी का व्यवसाय हुआ चौपट

प्रजापति समाज के अधिकांश लोग आज भी पारंपरिक मिट्‌टी व्यवसाय से जुड़े हुए है। जो मिट्‌टी के बर्तन आदि बनाकर अपना परिवार पालते है। मिट्‌टी कि मटकियों की बिक्री का सीजन गर्मी के दिनों में ही होता है। हर कोई ठण्डे पानी की आस में गर्मी के समय में मिट्‌टी की मटकी खरीदता है। सार्वजनिक स्थानों पर भी समाज सेवियों के द्वारा चौराहों पर मिट्‌टी के मटकों की प्याऊ आदि लगाई जाती है। इस प्रकार गर्मी के दिनों में मिट्‌टी की मटकियों की अच्छी खासी बिक्री हो जाती है। लेकिन इस वर्ष कोरोना के चलते सरकार के द्वारा किये गये लॉकडाउन के कारण कुम्हार समाज का व्यवसाय पूरी तरह चौपट हो गया। इस व्यवसाय से जुड़े लोगों के सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है।

प्रदेश में इन्होंने ज्ञापन देकर की मांग

अस्थायी खाद्य पात्रता सूची में शामिल करने के लिए प्रजापति समाज के संगठनों ने पूरे प्रदेश में पूरजोर तरीके से ज्ञापन देकर मांग की। जो सोशल मीडिया तथा पत्र-पत्रिकाओं में भी काफी चर्चित रहा। जिसके बाद राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने संशोधित सूची जारी की। जिसमें प्रजापति समाज सहित अन्य जातियों को भी शामिल किया गया।

विधायक पानाचंद मेघवाल के माध्यम से युवा प्रदेशाध्यक्ष देवकिशन प्रजापति ने मुख्यमंत्री के नाम सौपा ज्ञापन

अखिल भारतीय प्रजापति कुंभकार महासंघ के युवा प्रदेशाध्यक्ष देवकिशन प्रजापति ने बारां-अटरू विधानसभा क्षेत्र के विधायक पानाचंद मेघवाल तथा खान एवं गोपालन मंत्री प्रमोद जैन भाया को 16 मई 2020 को ही दूरभाष के माध्यम से खाद्य सुरक्षा सूची के सर्वे में प्रजापति (कुम्हार) समाज का नाम जुड़वाने के संबंध में बात की।

मंत्री एवं विधायक ने समाज की बात को गंभीरता से लेते हुए तत्काल मुख्यमंत्री से बात करने का आश्वासन दिया। इसके पश्चात 17 मई 2020 को समाज बंधुओं के साथ विधायक पानाचंद मेघवाल एवं जिला कलेक्टर को ज्ञापन देकर अस्थायी खाद्य पात्रता सूची में शामिल करने की मांग की गई। जिस पर उन्होंने आश्वासन दिया कि आपकी मांग से अवगत करा दिया है। प्रजापति समाज को शीघ्र ही इसमें शामिल कर दिया जाएगा।

झालावाड़ जिले की अकलेरा एवं पिड़ावा तहसील से दिया ज्ञापन

झालावाड़ जिले की अकलेरा तहसील से अखिल भारतीय प्रजापति कुंभकार महासंघ के प्रदेश उपाध्यक्ष पन्ना लाल प्रजापति ने तहसीलदार को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन देकर राहत प्रदान करने की मांग की वहीं पिड़ावा तहसील से अखिल भारतीय कुंभकार महासंघ के जिलाध्यक्ष मोहन लाल सांगरिया ने महिला जिलाध्यक्ष राजू बाई प्रजापति, दिनेश कुमार, कमल प्रजापति आदि के साथ पिड़ावा तहसीलदार को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन दिया।

कोटा जिले से दिया ज्ञापन कलेक्टर को ज्ञापन

कोटा में जिला कलेक्टर को ज्ञापन देने जाते महासंघ के पदाधिकारी।

अखिल भारतीय प्रजापति कुंभकार महासंघ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष नन्दलाल प्रजापति ने प्रदेश उपाध्यक्ष बाबुलाल प्रजापति, प्रदेश मंत्री अमृतलाल प्रजापति, इंजीनियर योगेश प्रजापति के साथ जिला कलेक्टर को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत एवं प्रदेश के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री रमेश मीणा के नाम ज्ञापन सौंपकर अस्थायी खाद्य सूची में शामिल करने की मांग की।

सूची में शामिल करने के बाद जताया आभार

राजस्थान सरकार के द्वारा संशोधित सूची जारी करने के बाद प्रजापति समाज के संगठनों ने सरकार का आभार जताया तथा हर्ष व्यक्त किया। महासंघ के युवा प्रदेशाध्यक्ष देवकिशन प्रजापति ने कहा कि राजस्थान सरकार ने कुम्हार समाज की पीड़ा को समझा है। इसके लिए मुख्यमंत्री महोदय को प्रजापति समाज की ओर से धन्यवाद। कुम्हार समाज की आवाज को मुख्यमंत्री तक पहुंचाने के लिए विधायक पानाचंद मेघवाल तथा गोपालन मंत्री प्रमोद जैन भाया का भी आभार माना।

अखिल भारतीय प्रजापति कुंभकार महासंघ के राष्ट्रीय पदाधिकारियों, प्रदेश पदाधिकारियों, जिले एवं तहसील की समस्त इकाइयों ने भी अपना योगदान दिया। साथ ही प्रजापति समाज के अन्य संगठनों ने भी आगे बढ़कर इसमें सहयोग किया।