Prajapati Kumhar Information

mera samaj mera gaurav – मेरा समाज मेरा गौरव अभियान

अब एक क्लिक में मिलेगी समाज की विश्वसनीय जानकारी

परम् आदरणीय समाज बंधुओं,
जैसा कि आप सभी जानते है कि प्रजापति समाज के लोग देश के सभी राज्यों में, सभी जिलों के सभी गाँवों में निवास करते है। प्रजापति समाज का इतिहास गौरवशाली रहा है। प्रजापति समाज सनातन संस्कृति के आरम्भ के समाजों में से एक है। कुम्हार समाज ने अपनी कला और हुनर के माध्यम से अपनी पहचान स्वयं बनाई है।

प्रजापति समाज की मौजुदगी के सबुत आज भी इतिहास के पन्नों में मौजुद है। हड़प्पा, मोहनजोदड़ों जैसी सभ्यताओं के प्राप्त अवशेषों में इस बात के प्रमाण मिले है। प्राप्त अवशेषों में मिट्‌टी से निर्मित विभिन्न प्रकार के सामानों से यह सिद्ध हो जाता है कि उस सभ्यता में भी समाज मौजुद था।

बंधुओं, वर्तमान की बात करें तो देश भर में समाज के कई प्राचीन अवशेष है। समाज के कई मंदिर, धर्मशालाएँ, छात्रावास बने हुए है। जिन्हें शायद में स्वयं भी और आप भी नहीं जानते। हाँ, लेकिन जो इनके आस-पास के क्षेत्रों में रहते है वे उनके बारे में जरूर जानते है।

बंधुओं, मैने सोचा कि क्यों ना हम इस जानकारी को एकत्रित करके आप सभी के लिए उपलब्ध करवायें। ताकि समाज इनको जान सके। समाज की आनेवाली पीढ़ी इनका लाभ उठा सके। अगर हम ऐसा करने में सफल हुए तो हमारी आने वाली हमारे इस योगदान को जरूर याद रखेगी।

इस उद्देश्य के लिएप्रजापति मंथन के द्वारा एक अभियान के रूप में इस कार्य को करने का निश्चय किया गया है। यदि आप हमारे इस कार्य से सहमत है तो हमारे इस कार्य में अपना योगदान प्रदान करें।

आपके आस-पास ऐसा कोई स्थान जैसे – मंदिर, धर्मशालाएँ, छात्रावास या अन्य कोई ऐतिहासिक विरासत है। तो उसकी जानकारी नीचे दिये गए फार्मेट में भरकर हमें भेजें। आपके द्वारा भेजी गई जानकारी को व्यवस्थित करके डिजिटल फार्मेट में आपके लिए उपलब्ध करवाया जाएगा। इस अभियान का नाम मैरा गौरव, मैरा समाज रखा जाता है।



प्रजापति मंथन के द्वारा प्रारंभ किये जा रहे मैरा समाज, मेरा गौरव अभियान में सहभागी बनकर समाज की जानकारी को एकत्रित करने में हमारा सहयोग प्रदान करें।

– प्रहलाद कुमार प्रजापति, संपादक

नोट : जानकारी उपलब्ध करवाने वाले समाजसेवी का नाम जानकारी के साथ अपडेट किया जाएगा।