कमलेश प्रजापत एनकाउंटर की CBI जांच की उठी मांग

प्रदेश के कई हिस्सों से विभिन्न संगठनों ने मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन देकर न्यायिक जांच की रखी मांग

1
212

प्रजापति मंथन :बाडमेर (राज.)

पुलिस के द्वारा किये गये कमलेश प्रजापत के एनकाउन्टर की न्यायिक जाँच करवानी की मांग ने जोर पकड़ लिया है। प्रदेश के विभिन्न हिस्सों से राजनीतिक दलों के पदाधिकरियों तथा सामाजिक संगठनों के पदाधिकारियों ने इस घटना की CBI जांच करवाने की मांग की है।

पचपदरा विधायक मदन प्रजापत ने कमलेश प्रजापत एनकाउंटर को फर्जी बताते हुए चेतावनी दी है कि घटना की निष्पक्ष जाँच नहीं हुई तो समाज आंदोलन करेगा। पचपदरा विधायक मदन प्रजापत ने आरोप लगाया है कि पुलिस ने घर में घुस कर वारदात को अंजाम दिया है। घटना व बरामदगी के बीच 3 से 4 घंटे समय का अंतराल है। बरामदगी में क्या सत्य है? घर में कैसा एनकाउंटर? यह एनकाउंटर फर्जी है। पूरे प्रकरण को लेकर उन्होंने मुख्यमंत्री से वार्ता की। उन्होंने बताया कि घर पर सीसीटीवी कैमरे लगे हुए है, उसकी जांच से स्पष्ट हो जाएगा। अगर न्याय नहीं मिला तो समाज बड़े स्तर पर आंदोलन करेगा।

प्रजापत समाज के जिलाध्यक्ष रावताराम ने कहा कि एनकाउंटर पर समाज को संदेहै, मृतक कमलेश के पास कुछ नहीं था। पूरे प्रकरण की जांच सीबीआई से करवाई जाए। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के लेटर पेड पर सदस्य व प्रवक्ता सुरेन्द्र लाम्बा ने भी मुख्यमंत्री के नाम पत्र लिखकर सीबीआई जांच करवाने की मांग की है।

मृतक के भाई भेराराम प्रजापत ने मुख्यमंत्री के नाम दिया ज्ञापन

मृतक कमलेश प्रजापत के भाई भेराराम प्रजापत ने बताया कि पुलिस के अधिकारियों व जवानों ने हथियारों के साथ प्रवेश किया, उसके बाद उसे धमकाते हुए फायरिंग कर मार दिया, उसके बाद गैरेज में खड़े वाहन को स्टार्ट कर कहानी रची है।

उन्होंने बताया कि घर के बाहर व अंदर सीसीटीवी कैमरे लगे हुए है, संपूर्ण घटनाक्रम कैमरे में कैद है। साथ ही पुलिस ने मेरे भाई कमलेश पर तस्कर होने का झुठा आरोप लगाया है। हम घटना की न्यायिक जांच चाहते है। सरकार सीबीआई से निष्पक्ष जाँच करवाए।

अखिल भारतीय प्रजापति कुंभकार महासंघ के युवा प्रदेशाध्यक्ष ने दिया ज्ञापन

बारां। अखिल भारतीय प्रजापति कुंभकार महासंघ की युवा शाखा के प्रदेशाध्यक्ष देवकिशन प्रजापति ने कमलेश की हत्या की उच्च स्तरीय जांच करवाने के लिए मुख्यमंत्री को पत्र लिखा है। उन्होंने पत्र मे बताया कि 22 अप्रैल 2021 को एक साधारण परिवार के बेटे कमलेश प्रजापत को मौत के घांट उतारकर बाड़मेर पुलिस ने एनकाउंटर का रूप दे दिया है। जो कि पूर्ण रूप से फर्जी एनकाउंटर है। बड़ी साजिस के तहत बाडमेर पुलिस द्वारा कमलेश प्रजापत की निर्मम हत्या की गई। उन्होंने संदेह जताते हुए सीबीआई से न्यायिक जांच करवाने की मांग की है।

रावणा राजपूत समाज ने सीबीआई जांच की मांग की

जसोल : रावणा राजपूत समाज बाड़मेर जिलाध्यक्ष ईश्वर सिंह चौहान ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र लिखकर कमलेश प्रजापत एनकाउंटर की सीबीआई जांच की मांग की। चौहान ने बताया कि कमलेश प्रजापत का एनकाउंटर संदिग्ध परिस्थितियों में हुआ जो पुलिसिया कार्यवाही पर संदेह पैदा करता है। घटना को लेकर सबूत मिटाने की कोशिश की गई है। पूर्ववर्ती सरकार में भी आनंदपाल सिंह की हत्या पर एनकाउंटर का नाम दिया गया। ठीक उसी प्रकार कमलेश प्रजापत को टारगेट कर हत्या कर एनकाउंटर किया गया है। इस मामले की सीबीआई जांच हो। जिससे न्याय मिल सके। चौहान ने कहा कि अगर समय रहते कार्यवाही नहीं की तो आंदोलन के माध्यम से जवाब दिया जाएगा।

भारतीय समता समाज पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष ने लिखा मुख्यमंत्री को पत्र

भारतीय समता समाज पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष अंबिका प्रजापति ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नाम पत्र लिख कर कमलेश प्रजापति के फर्जी एनकाउंटर की सीबीआई जाँच करवाने की मांग करते हुए पीडित परिवार को आर्थिक मदद, सुरक्षा तथा परिवार के एक सदस्य को जीवन यापन के लिए सरकारी नौकरी देने की मांग की है। मांग नहीं मानने पर आंदोलन व धरना प्रदर्शन की चेतावनी दी है।