ज़माने से अलग रस्ता हमारा

0
209 views

ज़माने से अलग रस्ता हमारा

ग़ज़ल

सभी से दोस्ती दावा हमारा
ज़माने से अलग रस्ता हमारा

भरी दुनिया में तन्हा फिर रहे हैं
कोई तो हमसफ़र होता हमारा

कभी वो कर के वादा फिर न आएं
इसी उलझन में दिल उलझा हमारा

ख़ुशी तो दो घड़ी ही पास ठहरी
रहा ग़म से मगर रिश्ता हमारा

हमें कुछ हारने का ग़म नहीं पर
सभी ने दाँव क्यों खेला हमारा

लेखक परिचय :-

बलजीत सिंह बेनाम (संगीत अध्यापक)
सम्पर्क सूत्र: 103/19 पुरानी कचहरी कॉलोनी, हाँसी
मोबाईल नंबर : 9996266210