देख मजूर्या रुजग बना कोराना मं फसग्या रै

0
265

देख मजूर्या रुजग बना कोराना मं फसग्या रै।
राह गांव पड़ी पकड़णीजूता चप्पल घसग्यारै।
लम्बी पड़ी डगर गांव की,
मोटर गाड्यां होगी बन्द ।
बैठ कण्ठ प कोराना नै,
धन्धा करद्या सारा बन्द ।।

कांईं खावै भापड़ा जन्दा बी वै मरग्या रै ।
राह गांव पड़ी पकड़णी जूताचप्पल घसग्यारै।
सीमा सील हुई जद सारी,
लोग ज्यां को ज्यां रहग्यो।
पास बच्यो नहीं अधेलो,
जुलम मजूरां प कर ग्यो ।।

भूखां मरतां कुण सूं ख्ह पेटपताळां चलग्यारै।
राह गांव पड़ी पकड़णीजूता चप्पल घसग्यारै।
सुणबाळो ऄक मल्यो ना,
कुण क होवां अरजाई ।
निर्धनता तो आडै फरगी ,
जद धक्का की नोबत आई ।।

जड़ापाड कोराना ‌कोग्योखुसियांसारी चरग्यो।
राह गांव पड़ी पकड़णीजूता चप्पल घसग्यारै।
सूखी रोटी बी खालेगां ,
गांव छोड क ना जावां।
बस्ती मां को पेट बडो छै,
ईं’मै आपण सबी समावां ।।
भूखा उठ्या भूखा न सोया पूरखा बी तरग्यारै।
राह गांव पड़ी पकड़णीजूता चप्पल घसग्यारै।

चौथमल प्रजापति, कोटा (राज.)